Okebiz Video Search



Title:गीतोक्त ज्ञान ही विशुद्ध मनुस्मृति
Duration:01:46:45
Viewed:23,198
Published:07-01-2018
Source:Youtube

गीतोक्त ज्ञान ही विशुद्ध मनुस्मृति– गीता आदिमानव महाराज मनु से भी पूर्व प्रकट हुई है– ‘इमं विवस्वते योगं प्रोक्तवानहमव्ययम्।’ (४/१) अर्जुन! इस अविनाशी योग को मैंने कल्प के आदि में सूर्य से कहा तथा सूर्य ने मनु से कहा। मनु ने उसे श्रवण कर अपनी याददाश्त में धारण किया; क्योंकि श्रवण की गयी वस्तु मन की स्मृति में ही रखी जा सकती है। इसी को मनु ने राजा इक्ष्वाकु से कहा। इक्ष्वाकु से राजर्षियों ने जाना और इस महत्त्वपूर्ण काल से यह अविनाशी योग इसी पृथ्वी में लुप्त हो गया। आरम्भ में कहने और श्रवण करने की परम्परा थी। लिखा भी जा सकता है– ऐसी कल्पना नहीं थी। मनु महाराज ने इसे मानसिक स्मृति में धारण किया तथा स्मृति की परम्परा दी। इसलिये यह गीतोक्त ज्ञान ही विशुद्ध मनुस्मृति है।... Place: Bhayandar, Mumbai More on Yatharth Geeta and Ashram Publications: yatharthgeeta.com/ Download Official Yatharth Geeta Application on Android and iOS to Stay in Touch. © Shri Paramhans Swami Adgadanandji Ashram Trust.

SHARE TO YOUR FRIENDS


Download Server 1


DOWNLOAD MP4

Download Server 2


DOWNLOAD MP4

Alternative Download :



SPONSORED
Loading...
RELATED VIDEOS
DHARAM KI CHAR CHAUPAEE AUR NAAM KARAN DHARAM KI CHAR CHAUPAEE AUR NAAM KARAN
42:12 | 34,819
SANTO BHAKTI SADHGURU AANI SANTO BHAKTI SADHGURU AANI
39:07 | 44,339
गीता के अनुसार धर्म गीता के अनुसार धर...
46:41 | 41,854
।। मनुस्मृति: भारत का दुर्भाग्य शास्त्र।। ओशो ।।भाग–२।। #osho #oshoindia #oshoquotes #osholife ।। मनुस्मृति: भार...
30:06 | 39,665
India's Contribution to World (भारत की विश्व को देन) Super Explained By Rajiv Dixit Ji India's Contribution to World (भारत क...
57:45 | 680,633
Sansar Mein Dharmik Kaun Sansar Mein Dharmik Kaun
19:28 | 24,864
श्रीमद्भगवद्गीता - यथार्थ गीता - चतुर्थ अध्याय - यज्ञकर्म स्पष्टीकरण श्रीमद्भगवद्गीत...
31:09 | 2,048,922
DHARMA - PRASHNA UTTAR DHARMA - PRASHNA UTTAR
44:08 | 22,190