Okebiz Video Search



Title:कबीर बीजक प्रवचन अभिलाष साहेब Bijak Ramaini-1(29.6.95),
Duration:47:55
Viewed:279,542
Published:19-09-2016
Source:Youtube

Bijak Ramaini-1(29.6.95) MY ALL VIDEO LINK /channel/UCi9h4FWEbv-UYqUovsL13QA/playlists/playli… KARAM CHANDRA PRVCHAN LINK /playlist?list=PLgXAaYytyNTS7ShLxAgdDUQ87EWRC-l2H SADGURU ABHILASH SAHEB VIDEO PRVCHAN LINK /playlist?list=PLgXAaYytyNTTdqB_aaRuX0OSjRSVH90Vj संतप्रवर श्री अभिलाष साहेब (17/08/1933 - 26/09/2012) मानव मात्र ही नहीं प्राणी मात्र को अपने प्रेम के आयाम में समेट लेने वाले संत सम्राट सद्गुरु कबीर साहेब की परंपरा में परम पूज्य गुरुदेव संत श्री अभिलाष साहेब जी महान संतों में से एक हैं। सद्गुरु कबीर के पारख सिद्धांत को भारत में प्रचार-प्रसार करने में पूज्य गुरुदेव का अतुलनीय योगदान है। आपका जन्म उ0 प्र0 के जिला सिद्धार्थ नगर के खानतारा ग्राम में दिनांक 17 अगस्त 1933 तदनुसार भाद्र कृष्ण द्वादशी संवत 1990 दिन गुरुवार को हुआ।आपकी माता का नाम श्रीमती जगरानी देवी एवं पिता का नाम पं0 श्री दुर्गाप्रसाद शुक्ल जी जो एक स्वतंत्रता संग्राम सेनानी थे। पिता के सामाजिक व्यस्ततता के कारण आपकी विधिवत स्कुली शिक्षा नहीं हो पाई थी। आपने कक्षा एक में छह महीने तथा कक्षा दो में छह महीने की पढ़ाई की, किन्तु आपको किसी भी कक्षा में परीक्षा देने का अवसर नहीं मिला। 17 वर्ष की अवस्था में आप कबीरपंथ से परिचित हुए। आपने 21 वर्ष की अवस्था में गृहत्याग कर कबीर आश्रम बड़हरा, जिला गोंडा (उ0प्र0) के प्रसिद्ध महंत पूज्यपाद सद्गुरु श्री रामसूरत साहेब जी द्वारा साधुवेष की दीक्षा ली | कबीर पारख संस्थान इलाहाबाद के संस्थापक तथा बीजक व्याख्या, पंचग्रंथी टीका, विवेकप्रकाश टीका, योगदर्शन भाष्य, रामायण रहस्य, गीतासार, उपनिषद सौरभ, कबीर दर्शन, वेद क्या कहते हैं? कहत कबीर, धर्म को डुबाने वाला कौन?, ढ़ाई आखर, मोक्षशास्त्र, बूंद.बूंद अमृत, व्यवहार की कला आदि लगभग 100 प्रकार के सामाजिक, आध्यात्मिक एवं व्यावहारिक ग्रंथों के यशस्वी लेखक हैं। आपकी ओजस्वी वाणी में भारतीय संस्कृति के ऋषि मनीषियों के उद्गार समाहित रहते हैं। साथ ही व्यावहारिक जीवन की उज्ज्वलता एवं आध्यात्मिक जीवन के अमोघ अनुभव रस सन्निहित रहता है। परम पूज्य गुरुदेव श्री अभिलाष साहेब जी की निर्मल वाणियों से सभी वर्ग के लाखों लोग मानवीय गरिमा को समझकर जहां व्यावहारिक जीवन को सुख.शांति पूर्वक जीने में सफल हुए हैं वहीं अनेक साधक साधनामय जीवन जीते हुए कल्याण की दिशा में अग्रसर हुए हैं। कबीर विक्रमी संवत 1455-1575 सन-1398-1518 कबीर साहेब सन 1399 ई0 में शिशु रूप में काशी के लहरताला तालाब में जनश्रुति के अनुसार नीरू.नीमा जोलाहा दंपत्ति को मिले और उन्हीं द्वारा पाले-पोषे गये। आप अपने छुटपन से ही प्रखर बुद्धि के एवं चिंतनशील थे। शायद आपने स्वामी श्री रामानंद को अपना गुरु माना हो, परंतु आपका अपना वास्तविक गुरु स्वयं का विवेक था। आप आजीवन ब्रह्मचारी एवं विरक्त संत के रूप में रहे। आपने सामाजिक, धार्मिक एवं आध्यात्मिक तीनों क्षेत्रों में आंदोलन किया। आपने मानव मात्र की एक जाति बताया, मानवता एक धर्म बताया तथा आत्मा को ही परमात्मा कहा। अपने आप पर संयम की कड़ाई तथा दूसरे प्राणियों के प्रति दया तथा प्रेम का बरताव - इन दोनों आचरणों को आपने अपने जीवन में उतारा तथा समाज को इसी की सीख दी। आपके व्यक्तित्व में कवि, सुधारक, क्रांतिकारी आदि अनेक रूप उभरे किन्तु आपका सबसे बड़ा रूप परमार्थ.लीन संत का है। इसीलिए आप भारतवर्ष में संत.शिरोमणि के रूप में मान्य हैं और आपका यह रूप विश्व में विख्यात है। उनका मुख्य ग्रन्थ बीजक है, जिसकी अनेक टिकाएं उपलब्ध हैं, बीजक कबीर को एक बुद्धजीवी के रूप में प्रस्तुत करता है | उनके अंतिम दिन मगहर में आमी नदी के किनारे बीते | वे हिन्दू और मुस्लमान दोनों द्वारा पूज्य मने गए KABIR kabir saheb 1398-1518 A D No authentic history of Kabir Saheb is available in historical texts. It is presumed he was born in 1398 AD in Lahartara of kashi, the present day Varanasi city of Uttar praesh in Northern India.As per prevalent among public it is said he was brought up by a muslim weaver couple named Niru and Nima in kashi.Kabir Saheb was fiercely intellectual and contemplative since his young age.Probably he opted Swami Ramanand, the orthodox Hindu monk of his time, as his guru but his own discretion was his true guru.He lived a life of a celibate and a devout saint all through out his life.He carried out a movement in all the three spheres of social, religious and spiritual matters of india.He preacehd all humanity to be of the same race;and humanity as the true religion; and Self to be the supreme God.Restrain on ones own self and compassion towards other beings and behaviour of love for all -- these two principles he followed all his life and preached the same to the society. Among his many forms of poet, reformer, revolutionary, apostle of hindu -muslim unity etc. his attractioin is that of a blissful saint. In India Kabir is recognised as a glorious saint and a jewell among the saints and the same is noted in the other parts of the world as well. His main text is BIJAK on which many commentaries are available.Bijak represents Kabir as a public intellectual of his time. His last days were spent in Maghar near Aami river.He was followed both by Hindu and Muslim adherents.

SHARE TO YOUR FRIENDS


Download Server 1


DOWNLOAD MP4

Download Server 2


DOWNLOAD MP4

Alternative Download :



SPONSORED
Loading...
RELATED VIDEOS
13, BAHAR BHARA ANDAR KHALI, SADGURU ABHILASH SAHEB, PRVACHAN, KABIR ASHRAM ALLAHABAD 13, BAHAR BHARA ANDAR KHALI, SADGURU ABHILASH S...
58:04 | 59,693
अंधविश्वास और पाखंड की धुलाई, प्रकृति का खेल, पाप से बचने का तरीका,  सद्गुरु अभिलाष साहेब प्रवचन अंधविश्वास और पाख...
29:19 | 93,901
पुनर जन्म होता है की नहीं , अभिलाष साहब जी  ऐसा प्रवचन आपने नहीं सुना होगा पुनर जन्म होता है ...
20:23 | 28,522
मोह भंग के कुछ कदम, अंधविश्वास, पाखण्ड, भ्रम, का नाश करने वाला सत्संग मोह भंग के कुछ कदम,...
00:00 | 0
12  KABIR कबीर 12 KABIR कबीर
08:09 | 1,072,011
02 Ramaini-2(30.6.95), SADGURU ABHILASH SAHEB, BIJAK PRAVCHAN, KABIR PARAKH SANSTHAN, ALLAHABAD, IND 02 Ramaini-2(30.6.95), SADGURU ABHILASH SAHEB, ...
34:40 | 47,741
पति पत्नी को कितना सहना चाहिए , सुने सद्गुरु अभिलाष साहेब से, एचडी क्वालिटी प्रवचन i पति पत्नी को कितन...
58:05 | 13,019
अपने स्वरूप की पहचान #sadguruabhilashsahebji#pravchan अपने स्वरूप की पह...
31:09 | 19,628

shopee ads

coinpayu